Breaking News
Home » मध्य प्रदेश » नरसिंहपुर » नरसिंहपुर : नहीं मिली एंबुलेंस, हाथठेले से ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में मौत

नरसिंहपुर : नहीं मिली एंबुलेंस, हाथठेले से ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में मौत

नरसिंहपुर। इलाज कराने हाथठेला में लिटाकर ले जाए जा रहे 65 वर्षीय एक वृद्घ की अस्पताल पहुंचने के पहले रास्ते में ही मौत हो गई। अस्पताल में मौत की पुष्टि हुई तो शव भी उसी हाथठेला में रखकर परिजन घर आ गए, घटना गोटेगांव क्षेत्र की है।

नरसिंहपुर : नहीं मिली एंबुलेंस, हाथठेले से ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में मौत
नरसिंहपुर : नहीं मिली एंबुलेंस, हाथठेले से ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में मौत

प्रशासनिक अव्यवस्था और जनप्रतिनिधियों की उदासीनता से क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाओं की लचर स्थिति है। इलाज के अभाव में क्षेत्र में पहले भी कई मौत हो चुकी हैं। लेकिन सोमवार को हाथ ठेला में अस्पताल जाने मजबूर वृद्घ की रास्ते में मौत और शव लाने के लिए भी वाहन न मिलने की घटना ने मानवीय संवेदनाओं को भी तार-तार कर दिया है।

बताया जाता है कि सब्जी बेंचकर जीविका चलाने वाले आजाद वार्ड निवासी सीताराम काछी 65 वर्ष की तबियत बिगड़ी तो परिजनों ने वृद्घ को अस्पताल ले जाने आसपास वाहन तलाशे। 108 को फोन लगाया। लेकिन जब कोई वाहन नहीं मिला तो परिजन वृद्घ को घर में रखे हाथठेला में लिटाकर अस्पताल जाने निकल पड़े। हाथठेला अस्पताल पहुुंचा भी नहीं था कि वृद्घ की सांसें रास्ते में ही उखड़ गईं। परिजनों ने जब अस्पताल ले जाकर जांच कराई तो उसे मृत घोषित कर दिया।

इसके बाद परिजनों ने शव को फिर हाथठेला में रखा और घर वापस आ गए। परिजनों के अनुसार मौत का कारण दिल का दौरा पड़ना बताया गया है। सीएमएचओ डॉ. एसएस ठाकुर ने बताया कि अस्पताल में करीब छह वर्ष से एम्बूलेंस नहीं है। शव वाहन की व्यवस्था भी नहीं है। विभाग को मांग पत्र भेजा गया है।

Check Also

कलेक्टर द्वारा निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा

श्री नरेश पाल ने निर्माण कार्यों की प्रगति की बुधवार को कलेक्टर चैम्बर में समीक्षा …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *